Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]

आज़ादी के मायने कई हैं

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
आज़ादी के मायने कई हैं,
क्योंकि इसके लिए हमारे पूर्वजों ने लड़ी लंबी लड़ाई है।।
कभी किसी के लिए चन्द खिलौनों का खेल।
तो किसी के लिए ज़िन्दगी और मौत के बीच की निरंतर चलती रेल।।
किसी के लिए यूँ हीं कभी उनकी सांसो से लहराता तिरंगा।
तो किसी के लिए खेतों की मेड़ों मेें बहती यमुना और गंगा।।
आज़ादी के मायने कई हैं।
शायद किसी के लिए
कुछ नहीं ,तो किसी के लिए पूरा जीवन ही यही है।।
किसी का सपना था कभी।
तो किसी के दिलों की अंतिम धड़कन थी कभी।।
लेकिन सच पूछो तो इस जादुई शब्द के मायने भले बदले हैं।
लेकिन इसके मर्म नहीं बदले हैं।।
किसी के अनगिनत प्रयासों की कभी न मिटने वाली प्यास है।
तो किसी के लिए खुद के बंगले का शिलान्यास है।।
आज़ादी के कई मायने हैं।
इसे हम सब जानते हैं।।
किसी ने गाए इसके तराने थे।
तो कोई बन गए आज़ादी के परवाने थे।।
किसी ने किया है इसे चरितार्थ ,करके इसको अपने अंदर आत्मसात्।
तो कोई बन गया इसके लिए घात।।
किसी के लिए बस छुट्टी की है बात।
जिसके लिए कहीं किसी ने काटीं हैं अंधेरे में बिन जल ,बिन खाने के रात।।
शायद इतनी सी है बात।
तभी हम दे रहे भारत माँ को अभी तक अघात।।
बांट के अनगिनत जात।
किए हैं अपने ही देश वासियों के साथ रक्तपात।।
आखिर इतनी सी तो है बात ।
फिर काहे को हैं हम खोज में, कि निकले विकास रूपी प्रभात।।
बहु ,बेटियों के लिए हालात हैं खराब ,होते नए कार्य कुख्यात ।
शायद इतनी सी ही तो है बात।।
दिन भर की छुट्टी की तो है बात।
चाहे क्यूँ ना काटनी पड़े शहीदों के परिवारों को खून से सनी रात।।
क्यूँ है हमारी दशा इतनी उदास।
हमें तो बुझानी है उन क्रान्तिवीरों,उन शहीदों की प्यास।।
करके अपने क्षेत्र में सफल प्रयास।
चाहे कितनी भी हो मुश्किलें हमारे पास।|
जीतने की सदैव रखनी होगी हम सबको आस।
तभी बनेगा हमारा देश पूरे विश्व में खास।
शायद उसी दिन, ये दिन बनेगा खास ।
मिटेगी तभी उन अनेकों वीरों , उन शहीदों की त्रास।।
पूरी होगी तभी उन अनेकों माँओं, विधवाओं की अरदास।
शायद उसी दिन ,ये दिन बनेगा खास।।
0

Note : Please Login to use like button

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email
10 Comments
  • SAKSHAM ROHILLA
    Posted at 15:31h, 15 August Reply

    Great work Shivam

    • shivam
      Posted at 18:04h, 15 August Reply

      thanx bro

  • Rishish Mishra
    Posted at 15:34h, 15 August Reply

    Such a beautiful and informative exploration. Highly appreciated

    • Shivam Agrahari
      Posted at 17:33h, 15 August Reply

      Thnx a lot sir🤩🤩🇮🇳🇮🇳

  • Ayush agrahari
    Posted at 16:36h, 15 August Reply

    Great bhai 👏👏👌

    • shivam
      Posted at 19:04h, 18 August Reply

      thnx bro!!

  • Ajay Singh
    Posted at 17:38h, 15 August Reply

    Awesome bhai .. keep it up👍

    • shivam
      Posted at 19:05h, 18 August Reply

      thnx bhai!!

  • Shefali
    Posted at 15:30h, 16 August Reply

    Beautiful poem. Very symbolic. Waiting for more of your creations!

    • shivam
      Posted at 19:03h, 18 August Reply

      thnx mam!!

Post A Comment

Related Posts

Article
Nirmala Mahesh

Family is the root of our life

“Family is like a compass that guides us. ” Brad Headley. Family is the core root of our existence and identity. We imbibe the right moral values from our parents who teach us to differentiate between good and bad, right and wrong. Family is like

Read More »
Article
Nirmala Mahesh

Lack of self-awareness

“Self-awareness is the key to success ” As it’s rightly said a person who is self-aware can become very successful in life. As self-awareness is the capability of rating and judging one own self, most importantly being aware of one own strengths and weaknesses. A

Read More »
Consciousness
Nirmala Mahesh

Mistakes refine us

As Steven Denn rightly said “You can never make the same mistake twice because the second time you make it, it’s not a mistake, it’s a choice ” Mistakes are inevitable. As human beings, we all do make some mistakes in life. But it’s how

Read More »
Article
Yamini Vasava

Mistakes

We all are human beings. And yes, we do mistakes. Let’s understand with an example. One boy was working in a multinational company. One day the boss gave him some work. But somehow he did a mistake. After realizing that he got frustrated and disappointed

Read More »