Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

स्वतंत्रता दिवस

स्वतंत्रता दिवस

स्वतंत्रता दिवस की हों हम सबको मंगलकामनाएं,
प्रतिवर्ष इस शुभ दिन को हम नव उत्साह से मनायें।
इस स्वतंत्रता को पाने के लिए, कितने हैं बलिदान हुए,
कितनों ने जेल के कष्ट सहे, कितनों के अपमान हुए।
माँ भारती के दीवाने ,आज़ादी के परवाने,
हंसते-हंसते सूली चढ़ गए, देश आज़ाद करवाने।
उनके बलिदानों का हम, ऋण चुका सकते नहीं,
उन दुर्दिनों की हम तो, कल्पना भी कर सकते नहीं।
भाग्यशाली हैं हम तो ,स्वतंत्र भारत में जन्म लिया,
होकर निर्बंध हमने तो , आज़ादी का रसास्वादन किया।
मिली आज़ादी हमें, खुलकर अपनी बात कहने की, 
कुछ भी करने की और कहीं भी रहने की।
गुलामी की ज़ंजीरों से होकर आज़ाद,
देश हुआ उन्नत ,खुशहाल और आबाद।
हर क्षेत्र में करता गया प्रगति, बनता गया आत्मनिर्भर,
इतना कि दूसरे देश भी होने लगे भारत पर निर्भर।
वैज्ञानिक उन्नति में भी, भारत बहुत आगे निकल गया,
मंगल ग्रह पर वह पहली ही कोशिश में पहुंच गया।
खेलकूद के क्षेत्र में भी भारत है आगे आ गया,
ओलम्पिक एशियाड के पदकों ने सर है ऊँचा उठा दिया।
देश का सर ऊँचा ही रहे ,यही है अब कर्तव्य हमारा,
साथ मिलकर करें यत्न, यह सोने की चिड़िया बन जाये दोबारा।
यह हमारा तिरंगा यूँ ही सदियों तक लहराएगा,
सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान ही कहलाएगा।
सारे जहाँ से अच्छा हिंदुस्तान ही कहलाएगा।
No Comments

Post A Comment