Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

ढलता सूरज

ढलता सूरज

ढलता सूरज सुरमई आभार लिए,
आसमान के आगोश में समाने को आतुर,
चह चहाते पक्षी अपने गंतव्य,
अपने अपने घोसले में पहुंचने को उड़ रहे बेकाबू,
लहरों पर बिछी सिंदूरी चादर जैसे कोई पैगाम लिए,
दिन की सारी ताप थकान दूर करने को व्याकुल चंद्र आने के लिए,
अति सुंदर मनमोहक कुदरत के बिखरते रंग,
कुछ खोकर कुछ पाने का पैगाम सूर्यास्त और चंद्र उदय का मनमोहक संगम,
प्रकृति की अनुपम छटा जीवन को उत्साहित करते क्षण,
ढलते सूरज का नारंगी रंग मन में उठती हजारों उमंग,
जीवन चलने का नाम है यही संदेश देती अस्त होते सूरज की एक-एक किरण।
No Comments

Post A Comment