Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

सूरज

सूरज

सूरज की पहली किरण से हमारे दिन की शुरुआत होती है।
सूरज के उगने से ही हमे कुछ नया करने की आशाएँ होतीं हैं।
सूरज के आते ही मन मे एक उमंग सी भर जाती है।
मानो दिल को एक खिलखिलाती सी उम्मीद होती है।।
सुबह होते ही हम सैर पर निकल जातें हैं।
ठंडी ठंडी हवा में खुद तंदुरस्त हो जातें हैं।
सुबह की ताज़गी से हमारा मन प्रफुलित हो जाता है।
मानो दिन भर की ऊर्जा का संचालन हो जाता है।।
सूरज के आते ही हम आलस त्याग कर तैयार हो जातें हैं।
भगवान की उपासना के लिए ताजे ताजे फूल एकत्रित करतें हैं।
भगवान को याद करके मन की शांति अनुभव करतें हैं।
अपने मन को शांत कर हम फिर कुछ अच्छे की उम्मीद करतें हैं।
दिन के रह गए अधूरे काम से परेशान हो जातें हैं।
सूरज के आगमन से हम हर्षोउल्लास से भर जातें हैं।
नई जमीद और उमंग से फिर से हम काम मे जुट जाते हैं।
फिर से हारी हुई जिंदगी को जीत की और ले जातें हैं।
No Comments

Post A Comment