Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

दिल

दिल

दिल हसीन साज़ है।
कभी शोर, कभी खामोशी की आवाज़ है।
दिल इंद्रधनुष का सतरंगा रंग है।
चंचलता लिए, नई तरंग है।
लहरों सी मचलती रवानी है।
बुढ़ापे में भी जवानी है।
गुल और खार की पहचान है।
पर बनता बड़ा नादान है।
आँखो के दर्द पे, रोता है।
लबों पे उफ्फ नही होने देता है।
राहत तो कभी सुकून है।
उड़ान भरने वाला जुनून है।
नादान है, अनपढ़ है, सच्चा है।
उम्र कोई भी हो, दिल बच्चा है।
एहसास लिए, हर पल ज़िंदा है।
खामोशी लिए बेज़ुबान परिन्दा है।
धड़कन संग दिल, का ताल्लुक बेनियाज़ है।
जिस्म है खाक, तो कांधे पे जनाज़ा है।
No Comments

Post A Comment