Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
अंत है इक अंत नहीं,
अंत नयी शुरुआत है...
भूले-बिसरे अंतर्मन से,
इक नयी मुलाक़ात है।

आरम्भ है एक नए युग का,
एक नयी सौगात है...
अंत असल में अंत नहीं,
नव जीवन की बरसात है।

अस्तित्व है प्रारम्भ का,
नयी सोच का आगाज़ है...
अंत ही अनंत है,
हर अंत का ये मिज़ाज़ है।

हर कर्म का फल अंत में,
जैसे सब्र हो साधू संत में,
अंत है हर परीक्षा का परिणाम...
अंत ही है पूर्ण विराम।

हर संघर्ष की ख़ुशी का किनारा,
हर डूबते को तिनके का सहारा,
अंत है उम्मीदों की पूर्ति...
अंत है वो चमकता सितारा।

आकाश का भी अंत नहीं,
न अंत है इस पृथ्वी का...
क्षितिज आभास है अंत का,
वास्तव में अंत की रूप रेखा का।

अंत प्रतीक सद्बुद्धि का,
चिह्न भी है जोश का,
है अंत ही इकलौता आईना...
बरसों से खोये होश का।

बंधन से मुक्ति का,
स्त्रोत है मन की शक्ति का,
अंत ही है एक मात्र राह...
है रास्ता शिव की भक्ति का।

अंत से न करना भय,
हर अंत पर है एक विजय,
अंत है एक खेल अनंत का...
अंत है नया सूर्योदय।।
0

Note : Please Login to use like button

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email
32 Comments
  • Vimit
    Posted at 03:08h, 25 September Reply

    Very nice miss simpy

  • Shivom
    Posted at 04:37h, 25 September Reply

    😍😍🤩🤩🤩Nice

  • Vijay
    Posted at 04:48h, 25 September Reply

    Nice🥰🥰👌👌

  • Vimit
    Posted at 04:53h, 25 September Reply

    Nice miss simpy

  • Kiran
    Posted at 04:58h, 25 September Reply

    👌👌

  • Vimit
    Posted at 05:00h, 25 September Reply

    Good ☺

  • Umesh gupta
    Posted at 05:03h, 25 September Reply

    👌👌

  • Preeti
    Posted at 05:03h, 25 September Reply

    Well written ❤️

  • Nidhi Mittal
    Posted at 05:09h, 25 September Reply

    सराहनीय पंक्तियाँ 📝

  • Monika goyal
    Posted at 05:24h, 25 September Reply

    😘😘😘

  • Dimpy
    Posted at 05:26h, 25 September Reply

    Loves it🤩🤩🤩🤩❤️❤️❤️❤️👏👏👏🎉🎉🎉

  • Naveen
    Posted at 05:43h, 25 September Reply

    Amazing👌👌👌

  • Vishakha garg
    Posted at 06:27h, 25 September Reply

    Nice written dii😍😘

  • Hrishi Shrama
    Posted at 06:33h, 25 September Reply

    Wow very beautiful 🤩

  • Jyoti Thareja
    Posted at 08:12h, 25 September Reply

    Beautiful lines miss😊
    Keep it up👍

  • Alka gupta
    Posted at 08:59h, 25 September Reply

    Awsm lines simpy….😘

  • Vandana
    Posted at 09:06h, 25 September Reply

    Mast bhadiya kya baat hai 👏👏👏👏👏👏👏👏👏

  • Vandana
    Posted at 09:07h, 25 September Reply

    👋👋👋

  • Mukul
    Posted at 09:08h, 25 September Reply

    Wow amazing 😍

  • Kirti
    Posted at 09:24h, 25 September Reply

    Life deserted through Never ending beginnings…👌

  • Pritam
    Posted at 01:53h, 26 September Reply

    Nice 🤝🤝🤝

  • Preeti mangla
    Posted at 02:17h, 26 September Reply

    Very nice

  • Sampada
    Posted at 04:32h, 26 September Reply

    Beautiful 💓

  • Anubha Agarwal
    Posted at 06:26h, 26 September Reply

    Very true poem

  • Anubha Agarwal
    Posted at 06:28h, 26 September Reply

    True thoughts

  • Bharat
    Posted at 08:33h, 26 September Reply

    Super lines related true thought

  • Bharat
    Posted at 08:33h, 26 September Reply

    Nice poem

  • Girvar pilaniya
    Posted at 09:29h, 26 September Reply

    Great 👌

  • Sejal
    Posted at 14:03h, 26 September Reply

    👍 great 👏

  • Sejal
    Posted at 14:24h, 26 September Reply

    👍 great 👏

  • kapil
    Posted at 03:00h, 02 October Reply

    Nice Thoughts 👌👌

  • Shyam
    Posted at 11:27h, 21 October Reply

    Who can imagine that end cap be explained like this

Post A Comment

Related Posts

Hindi
Yogesh V Nayyar

मयखाना

मयखाने के दरवाज़े खुलते हैं अंदर की ओर, हर आने वाला अपनी रूबाई सुनाता है। कुछ गम के साए में मजबूर, कुछ अपनी तन्हाइयों से दूर। हर प्याले में होता है जाम, अपने हरषु के लिए बेताब, किसी का गम गलत करने को, तो किसी

Read More »
Hindi
Yogesh V Nayyar

दामन

सच कहा है के अंधेरे में परछाईं भी साथ छोड़ जाती है, जब मौत आती है ज़िंदगी साथ छोड़ जाती है, मगर हम तो उन में से हैं जो न छोड़ते हैं साथ, चाहे हो परछाई या हो मौत का हाथ। थामते हैं दामन जब

Read More »
Hindi
Nilofar Farooqui Tauseef

यात्रा की यादें

हसीन यादों का हसीन सफर।श्याम की नगरी, मथुरा डगर। मन हतोत्साहित, चेहरे पे मुस्कान।मन बनाये नए-नए पकवान। मंदिरों से आती, घण्टों की आवाज़।श्याम की बाँसुरी संग छेड़े साज़। बस का था सफर, मन विचलित।नयन तरसे, होकर प्रफुल्लित। स्वर्ग सैर हुआ मन को।उसी पल कैद किया

Read More »
Article
Shreya Saha

पिता दिवस

जिस प्रकार माँ जीवन प्रदान करती हैं, ठीक उसी प्रकार पिता जीवन को सही दिशा दिखता है। पिता का दिल बाहर से कठोर हो सकता है, लेकिन अंदर से वो नारियल के सामान नरम होता है। पिता अपना प्यार दिखा नहीं पाते, लेकिन संतान पर

Read More »