Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

एक अनोखी मुलाकात

एक अनोखी मुलाकात

तेरी मुझसे प्यार भरी पहली लड़ाई आज भी याद है।
छोटी मोटी नोक झोंक हमारे बीच की आज भी याद है।
कैसे भूल जाऊ मैं तेरे साथ बिताए वो खट्टे मीठे पल।
तेरी मेरी वो एक अनोखी मुलाक़ात मुझे आज भी याद है।।

तेरी मुझसे वो प्यारी प्यारी बातें करना मुझे आज भी याद है।
तू तो मेरे लिए खुदा से मांगी हुई एक मीठी फरियाद है।
दूर बेशक हूँ तुझसे पर कैसे भूल जाऊँ तुझे मैं ये तो बता।
तेरी मेरी वो एक अनोखी मुलाक़ात मुझे आज भी याद है।।

तेरा मेरी मुश्किल का हल निकालना मुझे आज भी याद है।
बिना सोचे मेरे साथ खड़ा रहना मुझे आज भी याद है।
फिर कैसे भूल जाऊँ तेरा हर वक़्त मेरी हिम्मत बनना।
तेरी मेरी वो एक अनोखी मुलाक़ात मुझे आज भी याद है।।

कैसा भी वक़्त हो हमेशा हमारा मेरे साथ खड़े रहना आज भी याद है।
मेरे लिए पूरी दुनिया से लड़ जाना मुझे आज भी याद है।
फिर कैसे छोड़ दूँ मैं तेरा साथ हमेशा हमेशा के लिए।
तेरी मेरी वो एक अनोखी मुलाक़ात मुझे आज भी याद है।।

मेरी तकलीफ में मुझे प्यार से सहलाना आज भी याद है।
मेरे दर्द में तेरा भी दुखी हो जाना मुझे आज भी याद है।
फिर कैसे मैं तेरा हर वक़्त दिया हुआ साथ भूल जाऊँ।
तेरी मेरी वो एक अनोखी मुलाक़ात मुझे आज भी याद है।।
No Comments

Post A Comment