Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

कोई तो होगा

कोई तो होगा

कोई तो होगा जो,
सुबह के पहले प्रकाश से लेकर,
तम के अंधकार तक,
मेरा इंतज़ार करता हो…।
घने साये की तरह हर क्षण,
समीप होने का एहसास कराता हो,
शांत बादलों में, 
ठंडी हवा की तरह मुझे महसूस करे…।
बन्द पंछी की तरह,
बेड़ियों में ना बाँधे मुझे,
हर पल मेरे पँखों में,
हौसलों की उड़ान भरता हो…।
सूरत से नहीं वो,
मेरे सीरत से प्यार करता हो…
अच्छाइयाँ बुराइयाँ सब बताता हो,
जीवन भर धरती की तरह,
साथ निभाता हो…।
कोई तो होगा मेरे बाद भी,
मेरे होने का एहसास करता हो,
रात्रि में खुले आसमान में ,
टिमटिमाते तारों के चमकते चादरों के नीचे,
पेड़ो के ठंडी छांवों में चुपचाप बैठकर
मेरी कविताओं को रोज पढ़ता हो।।
No Comments

Post A Comment