Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

तारा

तारा

झिलमिलाते तारे से जीवन की बगिया सजायेंगे।
रिमझिम सावन में, संग खुशियाँ मनाएँगे।
ये ख़्वाब जो देखे हैं साथ तेरे जीने के,
ख्वाबों के संग अपनी दुनिया बसाएँगे।
इश्क़ की गलियों में, अपना आशियाँ बनाएँगे।
खार जो बिखरे राहों में, उनसे बगिया सजाएँगे।
सारे चमन से प्यारा रहे, हमारे प्यार का चमन,
चमन के संग, प्यार की दुनिया बसाएँगे।
आँखों को तेरी, अपनी निगहबान बनाएँगे।
खूबसूरत दुनिया की खूबसूरती बताएँगे।
ये नज़र उठे तो सिर्फ खातिर तेरे,
ये इश्क़ की बात हम ज़माने को सिखाएँगे।
मस्त हवाओं के संग, हर तूफ़ान से लड़ जाएँगे,
सुनहरे ख़्वाब, इन आँखों में बस जाएँगे।
उम्मीद की लहर, बसी होगी इस मन में
मन के दर्पण को, हम प्यार से सजाएँगे।
No Comments

Post A Comment