Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

भाषा की गरिमा

भाषा की गरिमा

हिंदी भाषा हमारी माता जैसी है, 
हिंदी ही हमारी पहचान है
हिंदी ही हमारी देश की गरिमा है, 
हिंदी से ही जन के तार जुड़े हैं।

हिंदी ही हम सब की आधारशिला है, 
हिंदी ही सूत्रधार है,
इससे ही हर कड़ी जुड़ी है,
हर भाषा से ऊपर हिंदी भाषा तभी तो मातृभाषा कहलाई है।

सबसे सरल, सबसे अनूठी बोली हिंदी, 
जन-जन के घर में बसी है, 
पुस्तकों ने भी पाठ पढ़ाई हिंदी भाषा देवनागरी।

हिंदी का चलो आओ विस्तार करो,
सब का जन कल्याण करो,
जन-जन तक इसको पहुँचाना है,
राष्ट्रीय भाषा हिंदी को सर्वोच्च शिखर पर पहुँचाना है, 
और गर्व से हिंदी दिवस मनाना है।
5 Comments
  • Samridhi Rathore
    Posted at 11:45h, 29 September Reply

    Very nice dear

  • Ashwani kumar
    Posted at 12:25h, 29 September Reply

    Just amazing

  • Kashinath Jalay
    Posted at 12:34h, 29 September Reply

    Very good 👍
    -Kashinath

  • Navnit kumar
    Posted at 03:58h, 30 September Reply

    Nice poet

  • Pramod Kumar Singh
    Posted at 07:23h, 03 October Reply

    Bahot hi pyara lekhan.

Post A Comment