Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

लॉकडाउन से सीख

लॉकडाउन से सीख

कोरोना महामारी के बाद लॉकडाउन हमारे जीवन के एक नया अनुभव बन गया है, इसमे दो राय नहीं है। लॉकडाउन के लागू होने के बाद हमारे जीवन चर्या में फेरबदल का गहरा अहसास हुआ है। प्रथमतः हमे अपने स्वास्थ्य के प्रति सचेतन होकर स्वास्थ्य संबंधी हर नियमों का सख्ती से पालन करना चाहिए और साफ सुथरे रहना चाहिए। कचड़ा, मैला और गंदगी को पूरी तरह साफ करना चाहिए। माहौल को स्वच्छ और परिष्कार रखना चाहिए। साथ मे लॉकडाउन से हमे ये सीख भी मिली है कि हम किस तरह अपनी घर आंगन की परिधि के अन्दर रहकर महामारी के भय वह आक्रमण से सुरक्षित रह सकते हैं। संयम और धैर्यता की कड़ी शर्तो के तहत हम सुरक्षा की लक्ष्मण रेखा खींच सकते हैं, और महामारी के संक्रमण को आगे फैलने से लगाम लगा सकते हैं। लॉकडाउन से हमे ये भी बोध हुआ है कि सामाजिक दूरियो मे भी एक प्रकार के औषधिरुपी गुण है। आगे लॉकडाउन में हमे ये भी महसूस हुया है कि अपने परिवार के साथ समय बिताना अपने आपमे कितना मोहक क्षण होता है। साथ साथ मे, हम ये सचसे भी वाकिफ हुये कि अगर ज्यादा भीड़ भाड़ ना हो और वाहनो की तादाद ना हो तो प्रदूषण स्वत ही घट जाता है और प्रक्रिति स्वच्छ और निर्मल बन जाती है। संक्षेपमे, लकडाउनसे हमे ये सारी सीखें मिली है।
No Comments

Post A Comment