Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

एक तरफा प्यार

एक तरफा प्यार

मेरे कुछ अनकहे जज्बात,
तेरे लिए मेरा एक तरफा प्यार।

शुरू हुई थी ये दस्ता,
बनके हमारी यारी से।

तेरे लिए मेरा इतना कुछ करना,
मेरे लिए हर किसी से लड़ जाना।

मुझे रोते से हँसाना,
मेरी पसन्द का तौफा लाना।

मेरा भी तेरे लिए एक तरफा होना,
तेरी खुशी के लिए, हर बात मानना।

मुझे कहाँ पता था कि मुझे प्यार हो गया है,
तेरे लिए दिल मे बेपनाह प्यार हो गया है।

कभी कहे नहीं हैं तुमसे,
ये मेरे दिल के जज्बात।

डरती हूँ आज भी कहने से,
की कही टूट न जाये मेरे अरमान।

दोस्ती से हुए प्यार को,
इज़हार न कर पाना।

यही तो है मेरी अनकहीं कहानी,
तेरे लिए, तेरे प्यार में दीवानी।
नेहा सिंघानिया के और लेख पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें: https://nazmehayat.com/members/nehas/
No Comments

Post A Comment