Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
A- Amidst the purple blushes of sky
N- Nightingales where chirp in twilight
G- Glitters a fallen stardust from clouds
A- Adorning pretty freckles being proud
R- Roping miracles from sacred threads
I- Innocence burgeons like melodies trek
K- Knocking crystal doors of
amethyst world
A- Angarika shines, a galaxy in itself surreal.
She's been cradled tenderly with warmth,
She's the roar of soaring flames,
She embraces the departed's blessings,
She's the lamp adorning glaze,
She can incinerate flesh to ashes,
She's kindled to liberate comfort,
She's the amber of your bangles,
She's the hazel bellowing effort,
She quenches volcano's thirst,
She's the wildfire burning oceans,
She's a ray of hope in temples,
She's a mysterious honey potion,
She's the sunbeam of mornings,
She's the moonshine of the night,
She's the trailing song of glory,
She's a keeper of sunlight,
She's the flower of forest,
She's the gift of Mother Earth.
0

Note : Please Login to use like button

About Me

Follow Us

Youtube Videos

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email
No Comments

Post A Comment

Related Posts

Hindi
Yogesh V Nayyar

मयखाना

मयखाने के दरवाज़े खुलते हैं अंदर की ओर, हर आने वाला अपनी रूबाई सुनाता है। कुछ गम के साए में मजबूर, कुछ अपनी तन्हाइयों से दूर। हर प्याले में होता है जाम, अपने हरषु के लिए बेताब, किसी का गम गलत करने को, तो किसी

Read More »
Hindi
Yogesh V Nayyar

दामन

सच कहा है के अंधेरे में परछाईं भी साथ छोड़ जाती है, जब मौत आती है ज़िंदगी साथ छोड़ जाती है, मगर हम तो उन में से हैं जो न छोड़ते हैं साथ, चाहे हो परछाई या हो मौत का हाथ। थामते हैं दामन जब

Read More »
Hindi
Nilofar Farooqui Tauseef

यात्रा की यादें

हसीन यादों का हसीन सफर।श्याम की नगरी, मथुरा डगर। मन हतोत्साहित, चेहरे पे मुस्कान।मन बनाये नए-नए पकवान। मंदिरों से आती, घण्टों की आवाज़।श्याम की बाँसुरी संग छेड़े साज़। बस का था सफर, मन विचलित।नयन तरसे, होकर प्रफुल्लित। स्वर्ग सैर हुआ मन को।उसी पल कैद किया

Read More »
Article
Shreya Saha

पिता दिवस

जिस प्रकार माँ जीवन प्रदान करती हैं, ठीक उसी प्रकार पिता जीवन को सही दिशा दिखता है। पिता का दिल बाहर से कठोर हो सकता है, लेकिन अंदर से वो नारियल के सामान नरम होता है। पिता अपना प्यार दिखा नहीं पाते, लेकिन संतान पर

Read More »