Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

स्नेह खातिर वाणी की आवश्यकता नहीं

स्नेह खातिर वाणी की आवश्यकता नहीं

फकीर हूँ दुनिया के लिए मैं,
मगर इन श्वानो के दिलों का राजा हूँ।
दुनियाँ के प्रेम से रहित हूँ मैं,
मगर इनकी दुनियाँ का सितारा हूँ।

बैमानी की दुनिया से दूर मैं,
इन बेजुबानों की वफादारी का साक्ष हूँ।
फ़रेब के झुंड से परे मैं,
इन ईमानदारों का सखा हूँ।

एहसान फरामोश भरी दुनिया से विलुप्त मैं,
इन में बसी नेकी का दीवाना हूँ।
अकृतज्ञमयी दुनिया के स्वभाव को देख चुका मैं,
इन के द्वारा निभाए गए नमक के फर्ज़ का ऋणी हूँ।

सूरज दीक्षित के और लेख पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करें: https://nazmehayat.com/members/surajdixit11/
No Comments

Post A Comment