Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]

हौंसले की दास्तान

"Our ego does not bow down for saying Sorry."
Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
(रचना के कुछ दिशा-निर्देश )

पहली पंक्ति - एक शब्द
दूसरी पंक्ति - दो शब्द
तीसरी पंक्ति - तीन शब्द
....
....
पंद्रहवी पंक्ति - पंद्रह शब्द
इसके उपरांत शब्दों को घटते क्रम में सज्जित किया है।
सोलहवीं पंक्ति - चौदह शब्द
सत्रहवीं पंक्ति - तेरह शब्द
....
....
अंतिम पंक्ति - एक शब्द

क़िस्मत,
मौसम सी,
पल-पल उलझी,
पल में ही सुलझी,
वक़्त-वक़्त की बात है,
इकसार न होते कभी हालात हैं,
कभी भीड़, कभी तन्हाई उसके साथ हैं,
मासूम सी आँखों में छलक उठी बरसात है,
कुछ सिमटे, सिकुड़े, संकुचें, सिसकें, दफ़न हुए जज़्बात है,
क्या क़सूर था उसका, यही की वो एक अनाथ है,
तन्हा पल,बेवक़्त मौसम की हलचल, किस्मत के मरे जज़्बात है,
मौसम ही था तूफानी, या असल तूफ़ान को समेटते उसके हाथ है,
बेबसी, लाचारी, दुखदायी सी नज़रों में बसी बस हैवानियत भरी वो रात है,
हाँ, ये दास्ताँ है एक घटना की जो हुई कभी किसी के साथ है,
रुख़ बदलता मौसम, वो तनहा पल, खामोश जंगल, छिना आँचल, इज़्ज़त पर हुआ आघात है,
न शस्त्र न वस्त्र थे, छूटी जब उसकी आस, तब ओढ़ी उसने बरसात है,
टूटकर भी कभी टूटी नहीं फिर भी हर दिन जैसे जंग तैनात है,
मुस्कान में ढाके इज़्ज़त अपनी, बिन आँचल भी वो पूरी कायनात है,
मर-मर कर जीना, पल-पल गिरना, तनहा खुद ही सम्भलना,
तनहा वक़्त,तनहा मौसम,तनहा पल, तनहा ही हालात हैं,
आँखों में उसकी आज भी बिन मौसम बरसात है,
कैसे किया बर्दाश पूछनी उससे ये बात है,
सिर्फ शब्द नहीं, ये उसके जज़्बात है,
आईने की वो शक्श हूँ मैं,
जिससे बाँटी ये बात है,
यही उसका दर्द है,
यही हालात है,
विश्वासघात है,
किस्मत!
0

Note : Please Login to use like button

Share this post with your friends

Share on facebook
Share on twitter
Share on whatsapp
Share on email
16 Comments
  • Vimit gupta
    Posted at 20:41h, 22 March Reply

    Superb

  • Vimit gupta
    Posted at 20:42h, 22 March Reply

    Very nice simpy

  • Bhavya Grover
    Posted at 20:45h, 22 March Reply

    👌👌👌

  • Monika Goyal
    Posted at 21:11h, 22 March Reply

    So nice

  • Muskan
    Posted at 21:27h, 22 March Reply

    Amazing

  • Vishakha garg
    Posted at 22:33h, 22 March Reply

    Very nice dii👏

  • Sampada Sharma
    Posted at 23:21h, 22 March Reply

    Amazing 👍

  • Nidhi Mittal
    Posted at 11:56h, 23 March Reply

    Very nice 👌👌

  • Hitesh
    Posted at 13:46h, 23 March Reply

    Soo nice

  • Priti mangla
    Posted at 16:40h, 23 March Reply

    So nice simpy

  • Kiran
    Posted at 15:26h, 24 March Reply

    👌👌

  • Jyoti
    Posted at 18:39h, 24 March Reply

    Very nice keep it up👍

  • kartik Bhardwaj
    Posted at 22:35h, 24 March Reply

    Level up hogya tumhara to👍👍

  • Sampada Sharma
    Posted at 23:42h, 24 March Reply

    Very nice 👌

  • Saumya
    Posted at 11:54h, 25 March Reply

    👏👏

  • Saumya
    Posted at 12:00h, 25 March Reply

    Beautiful

Post A Comment

Related Posts

Hindi
Yogesh V Nayyar

मयखाना

मयखाने के दरवाज़े खुलते हैं अंदर की ओर, हर आने वाला अपनी रूबाई सुनाता है। कुछ गम के साए में मजबूर, कुछ अपनी तन्हाइयों से दूर। हर प्याले में होता है जाम, अपने हरषु के लिए बेताब, किसी का गम गलत करने को, तो किसी

Read More »
Hindi
Yogesh V Nayyar

दामन

सच कहा है के अंधेरे में परछाईं भी साथ छोड़ जाती है, जब मौत आती है ज़िंदगी साथ छोड़ जाती है, मगर हम तो उन में से हैं जो न छोड़ते हैं साथ, चाहे हो परछाई या हो मौत का हाथ। थामते हैं दामन जब

Read More »
Hindi
Nilofar Farooqui Tauseef

यात्रा की यादें

हसीन यादों का हसीन सफर।श्याम की नगरी, मथुरा डगर। मन हतोत्साहित, चेहरे पे मुस्कान।मन बनाये नए-नए पकवान। मंदिरों से आती, घण्टों की आवाज़।श्याम की बाँसुरी संग छेड़े साज़। बस का था सफर, मन विचलित।नयन तरसे, होकर प्रफुल्लित। स्वर्ग सैर हुआ मन को।उसी पल कैद किया

Read More »
Article
Shreya Saha

पिता दिवस

जिस प्रकार माँ जीवन प्रदान करती हैं, ठीक उसी प्रकार पिता जीवन को सही दिशा दिखता है। पिता का दिल बाहर से कठोर हो सकता है, लेकिन अंदर से वो नारियल के सामान नरम होता है। पिता अपना प्यार दिखा नहीं पाते, लेकिन संतान पर

Read More »