Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

बढ़े हैं हम

पक्के इरादे लिए,
अनुभव का हाथ थामे चले हैं हम।
ज़िन्दगी का एक और पन्ना पलट,
आगे बढ़े,
साथ अपने हुनर का साया लिए चले हैं हम,
सपनों के सागर के पार,
उम्मीद की उंगली थामे,
धागों के उलझन सुलझाते चले हैं कदम।
पक्के इरादे लिए,
आसमां के उजले रंगों के,
साथ बहे हैं हम,
ज़िन्दगी की अनोखी पहल,
के लिए बढ़े हैं हम,
रोशन जहां के सपने लिए,
चले हैं हम,
पक्के इरादे लिए,
बढ़े हैं हम।

आँचल अग्रवाल दवारा और अधिक पढ़ने के लिए, यहाँ क्लिक करें: https://nazmehayat.com/members/aanchalagarwal/posts/

धन्यवाद !
0
No Comments

Post A Comment