Custom Pages
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7']
Portfolio
[vc_separator type='transparent' color='' thickness='' up='20' down='7'] [vc_separator type="transparent" position="center" up="12" down="16"]
 

जज़्बात Tag

  • All
  • Adult
  • Adventure
  • Animal
  • Art
  • Article
  • Author Interview
  • Autobiography
  • Biography
  • blogcontent
  • Books
  • Broken Heart
  • Business
  • Career
  • Children
  • Consciousness
  • Covid 19
  • Craft
  • Crime
  • Daily Contest
  • Devotional
  • Diary
  • Diwali Special
  • Drama
  • Dreams
  • English
  • entertainment
  • Essay
  • examinations
  • Fantasy
  • Father's Day
  • Feminism
  • festivals
  • Fiction
  • Food
  • Friendship
  • Happiness
  • Health
  • Hindi
  • History
  • Honesty
  • Horror
  • Inspiration
  • Letter
  • Life
  • Literary
  • Literature
  • Love
  • Memoir
  • Memories
  • Miscellaneous
  • Monthly Contest
  • Monument
  • Mother's Day
  • Motivational
  • Music
  • Mystery
  • Narrative
  • Nature
  • Navratri Special
  • New Contest
  • New Year
  • News
  • Non-fiction
  • Novel
  • Open Letter
  • Others
  • Paranomal
  • Patriotism
  • People
  • Philosophy
  • Photography
  • Picture Contest
  • Poetry
  • Prize
  • Prose
  • Prose Poetry
  • Psychology
  • Relations
  • Romance
  • Science
  • Self-help
  • Selfdoubt
  • Shayari
  • Social Challenge
  • Special Contest
  • Spell Bounded
  • Sport
  • Stanza
  • Story
  • success
  • Super Sunday
  • Suspense
  • Teach
  • Technology
  • Thriller
  • Tragedy
  • Travel
  • Tribute
  • Video
  • Weekly Contest
  • Winter Special

मैं लेखक हूँ लेख लिखता हूँ, कम शब्दों में जज़्बात अनेक लिखता हूँ, हाँ भले ज़िन्दगी के फसाने अधूरे रह गए हों काफ़ी, पर पन्नों पर कहानी पूरी हर एक लिखता हूँ, कभी नग़मे दर्द भरे कभी यादें पुरानी, शब्दों में लपेट सुनाता हूँ दर्द खुद के खुद की ज़ुबानी, उनमें...

रंग बरसे तेरे दीदार का अगर, तो जरूर आऊंगी उस नगर, प्यार से रंग जाऊ मैं तुमसे, मेरे जज्बात जुड़ गए इस कदर बताओ कैसे दूर जाऊँ खुदसे। रंग बरसे तेरे चाहत का मुझ पर, तो हर रंग से साझेदारी कर जाऊँ, इतना प्यार और भरोसा है तुझ पर, की खुद को...

मेरे जज़्बात, मेरी हर बात, वो अरमान, वो समान। जो मैंने मिटा दिए थे, जो मैंने जला दिए थे। वो जले हुए पन्ने-मिले कल रात में, वो जले हुए पन्ने-जिसे पडलिया जज़्बात में। वो जले हुए पन्नों-में कुछ खास थी यादें, वो जले हुए पन्नों-में छुपी थी राज़ की बातें..। जले हुए पन्नों-ने...

एक वक्त था,जब रिश्तो में भी, जज़्बात हुआ करते थे। मिठास थी गुड़ की व, संगीत के साज़ हुआ करते थे। किसी को बहन बनाया तो ताउम्र, हर साल राखी के तार हुआ करते थे। भाई कह दिया ग़र किसी ने, सिर पर रख कर हाथ, सीना हो जाता था गज़ भर का, यह...

अकेली लड़की को कोई क्यों नहीं अपनाता? वो हुई अकेली, क्योंकि उसके घरवालों ने उसे नहीं अपनाया, इसमें उसका दोष कैसे? वो बिकी इसलिए, क्योंकि तुमने उसे खरीदा था, तो वो गलत और तुम सही कैसे? उसने अपना जिस्म तुम्हें दिया था, तो वो तवायफ़ और तुम शरीफ कैसे? वो लाखों...

हो आज़ादी दिवस या हो संविधान का दिन, अधूरे है सब देशभक्ति की सच्ची भावना के बिन। कोई एक दिन कैसे हो सीमित आज़ादी का, आज़ादी तो हक़ है भारत की पूरी आबादी का। हो क्षीण सोच से आज़ादी, हो दिलों से आज़ादी, आज़ादी हो अन्याय की बेड़िओ से, हो आज़ादी...

(रचना के कुछ दिशा-निर्देश ) पहली पंक्ति - एक शब्द दूसरी पंक्ति - दो शब्द तीसरी पंक्ति - तीन शब्द ...

इन लहलहाते खेतो से गुज़ार जाऊँ, होठो पे खुशियाँ और उस ख़ुशी से बिखर जाऊँ, ये ज़मी औऱ...

आशिकी के बाद कल उनसे, पहली मुलाकात हुई, वो भी क्या लाजवाब हुई, गुमसुम से थे दोनो, शुरुआत कहाँ से हो, खैर चाय के बहाने, पहली बात हुई, दिल तो मिल गये थे, आँखे चार पहली बार हुई, जज्बात कह दिये सारे आँखो से ही, बातें सिर्फ दो चार हुई, आशिकी के बाद कल उनसे, पहली मुलाकात...

मेरे कुछ अनकहे जज्बात, तेरे लिए मेरा एक तरफा प्यार। शुरू हुई थी ये दस्ता, बनके हमारी यारी से। तेरे लिए मेरा इतना कुछ करना, मेरे लिए हर किसी से लड़ जाना। मुझे रोते से हँसाना, मेरी पसन्द का तौफा लाना। मेरा भी तेरे लिए एक तरफा होना, तेरी खुशी के लिए, हर बात...